रविवार, 10 सितंबर 2017

समाज के विकास तथा कार्यात्मकता के आधार के रूप में उत्पादन पद्धति - १

हे मानवश्रेष्ठों,

यहां पर ऐतिहासिक भौतिकवाद पर कुछ सामग्री एक शृंखला के रूप में प्रस्तुत की जा रही है। पिछली बार हमने यहां प्राकृतिक-ऐतिहासिक प्रक्रिया के रूप में समाज के विकास पर चर्चा की थी, इस बार हम समाज के विकास तथा कार्यात्मकता के आधार के रूप में उत्पादन पद्धति पर चर्चा शुरू करेंगे

यह ध्यान में रहे ही कि यहां इस शृंखला में, उपलब्ध ज्ञान का सिर्फ़ समेकन मात्र किया जा रहा है, जिसमें समय अपनी पच्चीकारी के निमित्त मात्र उपस्थित है।


समाज के विकास तथा कार्यात्मकता के आधार के रूप में 
उत्पादन पद्धति - १
(mode of production as the basis of the development and functioning of society - 1)

वास्तविक जीवन में, लोग विविध प्रकार के कामधाम करते हैं, जैसे पारिवारिक-घरेलू कार्य और उत्पादन, राजनीतिक, वैज्ञानिक, अध्यापकीय, धार्मिक, सैनिक, क्रीड़ा-कलाप, आदि। इनमें से किसी भी कार्य को संपन्न करने में वे एक दूसरे के साथ कुछ निश्चित संबंध क़ायम करते हैं। पहले के युगों के चिंतकों ने, जो नियमतः समाज के प्रभुत्वशाली वर्गों ( dominant classes ) के हितों को व्यक्त करते थे, मुख्य भूमिका बौद्धिक क्रियाकलाप ( intellectual activity ) को दी। ऐसा इसलिए हुआ कि बौद्धिक क्रियाकलापों से जुड़ी आत्मिक संस्कृति का उत्पादन, यानी दार्शनिक, धार्मिक, राजनीतिक, वैज्ञानिक और अन्य विचारों का विस्तारीकरण प्रभुत्वशाली, शासक वर्गों का विशेषाधिकार ( privilege ) था।

ऐतिहासिक भौतिकवाद की असाधारण उपलब्धि यह समझ है कि समाज के विकास का वास्तविक आधार ( और बौद्धिक क्रियाकलापों सहित अन्य सारी क़िस्मों के कार्यों का आधार ) श्रम की प्रक्रिया, यानी भौतिक संपदा का उत्पादन है। यह प्रस्थापना, जो हमें सरल और बोधगम्य जान पड़ती है, अपने समय के लिए ( जब इसे पेश किया गया था ) समाज के जीवन की समझ में एक वास्तविक क्रांति थी।

जैसा कि हम यहां पहले देख चुके हैं, श्रम और लक्ष्योन्मुख व्यावहारिक कार्यकलाप ही वह मुख्य कारण था, जिसने मनुष्य को जंतु जगत से विलग किया और साथ ही चेतना की उत्पत्ति का आधार था। श्रम ऐतिहासिक विकास और समाज की कार्यात्मकता का आधार है

श्रम प्रक्रिया क्या है? और इसकी संरचना क्या है? इस प्रक्रिया के मूलभूत तत्व निम्नांकित हैं : (१) मनुष्य और उसका ज्ञान व कुशलताएं ; (२) श्रम के औज़ार, यांत्रिक विधियां, उपकरण तथा तकनीकी युक्तियां ; (३) काम की वस्तुएं, जिन्हें मनुष्य प्रकृति से हासिल करता या जिनकी रचना करता और जिन्हें औज़ारों के ज़रिये तैयार माल बनाता है। औज़ारों और श्रम की वस्तुओं को संयुक्त रूप से उत्पादन के साधन ( means of production ) कहा जाता है। वे भौतिक हैं और वस्तुगत रूप में विद्यमान होते हैं। मनुष्य और उसके ज्ञान व कुशलताओं और उत्पादन के समुपयुक्त साधनों से समाज की उत्पादक शक्तियां ( productive forces ) निर्मित होती हैं। यह उत्पादन का वह पक्ष है, जिससे मनुष्य प्रकृति को प्रभावित करता है। औज़ारो के ज़रिये बाह्य जगत पर क्रिया करते हुए मनुष्य उसे परिवर्तित करता है, बाह्य घटनाओं व प्रक्रियाओं को एक ऐसा रूप प्रदान करता है, जो उसकी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए अधिक उपयुक्त होता है। अपने परिवेशीय जगत को परिवर्तित करते हुए वह स्वयं को भी परिवर्तित करता है। 

मेहनतकशों के ज्ञान व कुशलताओं में परिवर्तन व विकास, औज़ारों तथा संपूर्ण उत्पादन साधनों में परिवर्तन के बाद आते हैं। इसके फलस्वरूप उत्पादक शक्तियों के विकास का स्तर भी ऊंचा उठता है और वे अधिक अच्छी और परिष्कृत हो जाती हैं। उदाहरण के लिए, कृत्रिम रेशों जैसी नयी कृत्रिम सामग्री ( श्रम की वस्तु ) की रचना के फलस्वरूप नयी कताई मशीनों का अविष्कार हुआ, उसके लिए नये उत्पादन ज्ञान तथा कुशलताओं की जरूरत पड़ी। अपनी बारी में पश्चोक्त ने इन मशीनों को और उत्पादन की सारी तकनीक को सुधारना संभव बनाया, जिसने सामान्यतः उत्पादन शक्तियों के विकास को बढ़ावा दिया।

इस तरह, हम देखते हैं कि उत्पादक शक्तियों में विशुद्ध भौतिक घटक ( औज़ार, यंत्रादि ), और मानसिक, बौद्धिक घटक ( उत्पादन का ज्ञान व कुशलताएं ) दोनों शामिल हैं, किंतु उत्पादन के विकास का प्रमुख, निर्धारक पक्ष भौतिक घटक है। इससे भी अधिक, श्रमिक रूपी मनुष्य प्रमुख उत्पादक शक्ति है, क्योंकि औज़ारों को काम में लानेवाला वही है और वही उत्पादन के समस्त साधनों को परिवर्तित करने में भी योग देता है। हमारे युग में, उत्पादक शक्तियों के विकास के विकास के लिए विशेष वैज्ञानिक ज्ञान की ज़रूरत होती है। यही कारण है कि विज्ञान एक प्रत्यक्ष उत्पादक शक्ति बन रहा है और ज्ञान की भूमिका लगातार बढ़ रही है।



इस बार इतना ही।
जाहिर है, एक वस्तुपरक वैज्ञानिक दृष्टिकोण से गुजरना हमारे लिए संभावनाओं के कई द्वार खोल सकता है, हमें एक बेहतर मनुष्य बनाने में हमारी मदद कर सकता है।
शुक्रिया।

समय अविराम

0 टिप्पणियां:

एक टिप्पणी भेजें

अगर दिमाग़ में कुछ हलचल हुई हो और बताना चाहें, या संवाद करना चाहें, या फिर अपना ज्ञान बाँटना चाहे, या यूं ही लानते भेजना चाहें। मन में ना रखें। यहां अभिव्यक्त करें।

Related Posts with Thumbnails

ताज़ातरीन प्रविष्टियां